HBSE Class 11 Hindi Question Paper 2024 Answer Key

Haryana Board (HBSE) Class 11 Hindi Question Paper 2024 Answer Key. HBSE Class 11 Hindi Question Paper 2024. Haryana Board Class 11th Hindi Solved Question Paper 2024. HBSE Class 11 Question Paper 2024 PDF Download. HBSE Hindi Solved Question Paper 2024 Class 11. HBSE 11th Hindi Solved Question Paper 2024. HBSE Class 11 Hindi Question Paper Download 2024. HBSE Class 11 Hindi Solved Question Paper 2024.

HBSE Class 11 Hindi Question Paper 2024 Answer Key

खण्ड – अ (बहुविकल्पीय प्रश्न)

1. निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर इस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दीजिए : (1 × 5 = 5 अंक)
देखना यह है कि, हिन्दी जिन जड़ों से निकली है, उसका बरगद पूरे विश्व में कहाँ-कहाँ तक फैला है और उसने कहाँ-कहाँ तक अपनी जड़ें जमाई हैं। हिन्दी का यह बरगद सात समन्दर पार तक, अपनी डालों को ले गया, कुछ मजबूत डालों ने कैरेबियन देशों में अपनी जड़ें गिराई, कुछ ने गल्फ में, तो कुछ ने एशिया में। अब उन जड़ों को वहाँ विकसित वृक्ष के तनों के रूप में देखा जा सकता है। वे जड़ें जहाँ गिरीं वहीं से खाद-पानी लेने लगीं।
पिछले बीस बरस में मैंने काफ़ी दुनिया देखी है। इस दौरान प्रवासी भारतीयों में धीरे-धीरे एक चिंता विकसित होते देखा है। पश्चिम की दुनिया में अब लोगों को विकसित होते देखा है। पश्चिम की दुनिया में अब लोगों को ख्याल आ रहा है, कि उनके बच्चे बड़े हो गए और अफ़सोस, कि वे उन्हें अपनी भाषा न सिखा पाए। अफसोस, कि उन्हें अपनी संस्कृति न दे पाए। इस मरोड़ का तोड़ क्या हो? विश्व हिन्दी सम्मेलनों में इस प्रकार की सामूहिक चिंताएँ एक मंच पर आती हैं और निदान खोजती हैं, निदान का अर्थ संस्थाएँ चलाने के लिए केवल आर्थिक मदद करना नहीं होता।
प्रश्न :
(i) उपर्युक्त गद्यांश का सर्वाधिक उचित शीर्षक क्या हो सकता है?
(क) हिन्दी की दुनिया
(ख) हिन्दी का बरगद
(ग) मजबूत डालें
(घ) पश्चिम की दुनिया
उत्तर – (क) हिन्दी की दुनिया

(ii) पश्चिमी दुनिया के लोगों को क्या अफसोस हो रहा है?
(क) उन्हें इन देशों में नहीं आना चाहिए था।
(ख) वे अपने बच्चों को अपनी भाषा नहीं सिखा सके।
(ग) वे आर्थिक रूप से कमजोर हैं।
(घ) वे अपने परिवार से अलग हो गए।
उत्तर – (ख) वे अपने बच्चों को अपनी भाषा नहीं सिखा सके।

(iii) हिन्दी की तुलना बरगद के पेड़ से क्यों की गई है?
(क) उसकी अनेक जड़ें होती हैं जिनसे वह मजबूत बनता है।
(ख) उसकी प्रत्येक जड़ से नया वृक्ष बनता है।
(ग) हिन्दी भी बरगद की भाँति अनेक रूपों में विश्व के अन्य देशों में विकसित हो रही है।
(घ) उपर्युक्त सभी
उत्तर – (घ) उपर्युक्त सभी

(iv) हिन्दी का विकास मुख्यतः किन देशों में हुआ?
(क) कैरेबियन देशों में
(ख) गल्फ देशों में
(ग) एशिया के देशों में
(घ) उपर्युक्त सभी
उत्तर – (घ) उपर्युक्त सभी

(v) हिन्दी भाषा से संबंधित चिंताओं का निदान करने के लिए क्या किया गया?
(क) विश्व हिन्दी सम्मेलनों का आयोजन
(ख) मेलों का आयोजन
(ग) विश्व की अन्य भाषाओं का आयोजन
(घ) विभिन्न संस्कृतियों पर चर्चा का आयोजन
उत्तर – (क) विश्व हिन्दी सम्मेलनों का आयोजन

2. निम्नलिखित पद्यांश को पढ़कर इस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दीजिए : (1 × 5 = 5 अंक)
जहाँ विपुल विश्व की माया,
विनाशशील नर्तन में
क्षण-क्षण बदल रही है अपनी काया
पल-पल जी जा रही है नवीन बनकर
वायु के चरण भी काँप रहे हैं
विस्तृत मरु की नीरवता-सी
लहरियाँ लोट रही हैं धरा पर
घायल विक्षुब्ध सर्पिणियों-सी, ऐसे में
तुम्हारे लिए ऐसी जगह मैं कहाँ से लाऊँ
जहाँ तुम खेल सको निर्भय, हर्षित होकर।
प्रश्न :
(i) कविता में संसार को कैसा बताया गया है?
(क) पुरातन रूप धारण करने वाला
(ख) चमत्कारिक रूप धारण करने वाला
(ग) अमानवीय रूप धारण करने वाला
(घ) विपुल और नित नवीन रूप धारण करने वाला
उत्तर – (घ) विपुल और नित नवीन रूप धारण करने वाला

(ii) क्षण-प्रतिक्षण किसे नवीनता प्राप्त हो रही है?
(क) मानव की काया को
(ख) नभ में छिटकी चाँदनी को
(ग) विश्व की माया को
(घ) सागर के जल को
उत्तर – (ग) विश्व की माया को

(iii) किसके चरण काँपते हुए बताया गया है?
(क) वायु के
(ख) किसान के
(ग) देवदूत के
(घ) मानव के
उत्तर – (क) वायु के

(iv) वायु के चरण क्यों काँप रहे हैं?
(क) मानव के आक्रामक जोश को देखकर
(ख) जल प्रलय को देखकर
(ग) विध्वंसक बदलावों को देखकर
(घ) वातावरण के विकर्षण को देखकर
उत्तर – (ग) विध्वंसक बदलावों को देखकर

(v) घायल विक्षुब्ध सर्पिणियों-सी में अलंकार है :
(क) श्लेष अलंकार
(ख) यमक अलंकार
(ग) रूपक अलंकार
(घ) उपमा अलंकार
उत्तर – (घ) उपमा अलंकार

अथवा

धूप चमकती है चाँदी की साड़ी पहने
मैके में आई बिटिया की तरह मगन है
फूली सरसों की छाती से लिपट गई है
जैसे दो हमजोली सखियाँ गले मिली हैं
भैया की बाँहों से छूटी भौजाई-सी
लँहगे की लहराती लचती हवा चली है
सारंगी बजती है खेतों की गोदी में
दल के दल पक्षी उड़ते हैं मीठे स्वर के
अनावरण यह प्राकृत छवि की अमर भारती
रंग-बिरंगी पंखुरियों की खोल चेतना
सौरभ से मह-मह महकती है दिगंत को
मानव मन को भर देती है दिव्य दीप्ति से
शिव के नंदी-सा नदिया में पानी पीता
निर्मल नभ अवनी के ऊपर विसुध खड़ा है
काल काग की तरह दूँठ पर गुमसुम बैठा
खोई आँखों देख रहा है दिवास्वप्न को
प्रश्न :
(i) धूप किस प्रकार की लग रही है?
(क) चाँदी की साड़ी पहने जैसे कोई बेटी मायके आई हो।
(ख) धरती के कोने-कोने में फैल गई सुंदरी की तरह।
(ग) मनमौजी लड़की की तरह।
(घ) ससुराल में आई बेटी की तरह।
उत्तर – (क) चाँदी की साड़ी पहने जैसे कोई बेटी मायके आई हो।

(ii) सरसों के संदर्भ में धूप कैसी लग रहीं है?
(क) जैसे दो भाई गले मिल रहे हों।
(ख) भौजाई से गले मिल रही हों।
(ग) दो सखियाँ गले मिल रही हों।
(घ) दो दुश्मन गले मिल रहे हों।
उत्तर – (ग) दो सखियाँ गले मिल रही हों।

(iii) शिव के नंदी-सा ………. पानी पीता। – इस पंक्ति में ‘नंदी-सा’ किसे कहा गया है?
(क) नभ को
(ख) मानव को
(ग) धरती को
(घ) काल को
उत्तर – (क) नभ को

(iv) काल दूँठ पर किसकी तरह बैठा है?
(क) भँवरे की तरह
(ख) चिड़िया की तरह
(ग) साँप की तरह
(घ) कौए की तरह
उत्तर – (घ) कौए की तरह

(v) उपर्युक्त काव्यांश में किसका चित्रण है?
(क) प्रकृति के सौन्दर्य का।
(ख) धूप के सौन्दर्य का।
(ग) पक्षियों के सौन्दर्य का।
(घ) मानव के सौन्दर्य का।
उत्तर – (क) प्रकृति के सौन्दर्य का।

3. निम्नलिखित पद्य खण्ड पर आधारित बहुविकल्पी प्रश्नों के उत्तर दीजिए : (1 × 5 = 5 अंक)
(i) कबीर के अनुसार परमात्मा कहाँ पाया जाता है?
(क) मंदिर में
(ख) कण-कण में
(ग) आँगन में
(घ) स्वर्ग में
उत्तर – (ख) कण-कण में

(ii) घर मुझसे दूर है जो, घर खुशी का पूर है जो, ‘पूर है जो’ से आशय है ……………।
(क) वह घर जो परिपूर्ण है यानि खुशियों से भरा-पूरा है।
(ख) घर जो धागों का पूर है।
(ग) घर जो पूर्ण हो गया है।
(घ) घर जो भरा पड़ा है।
उत्तर – (क) वह घर जो परिपूर्ण है यानि खुशियों से भरा-पूरा है।

(iii) ‘आओ मिलकर बचाएँ’ कविता में कवयित्री जी ने बस्तियों के जीवन की तुलना किससे की है?
(क) प्रकृति
(ख) कुत्ता
(ग) कंकाल
(घ) बिल्ली
उत्तर – (क) प्रकृति

(iv) बढ़ई किसको नहीं काट पाता?
(क) लकड़ी को
(ख) पेड़ को
(ग) अग्नि को
(घ) खाके को
उत्तर – (ग) अग्नि को

(v) कॉलम ‘अ’ को कॉलम ‘ब’ से सुमेलित करके, सही विकल्प चुनिए :
कॉलम ‘अ’ कॉलम ‘ब’
1. यह सुनकर (i) परेशान फिर हो जाता हूँ।
2. ब्याह तुम्हारा होगा (ii) पढ़ लेना अच्छा है।
3. पाता हूँ अब कागज गायब (iii) मैं हँस देता हूँ।
4. मैंने कहा कि चंपा (iv) तुम गौने जाओगी।
(क) 1-(ii), 2-(iii), 3-(i), 4-(iv)
(ख) 1-(iii), 2-(iv), 3-(i), 4-(ii)
(ग) 1-(ii), 2-(iii), 3-(iv), 4-(i).
(घ) 1-(i), 2-(iv), 3-(ii), 4-(iii)
उत्तर – (ख) 1-(iii), 2-(iv), 3-(i), 4-(ii)

4. निम्नलिखित गद्य खण्ड पर आधारित बहुविकल्पीय प्रश्नों के उत्तर दीजिए : (1 × 5 = 5 अंक)
(i) ‘नमक का दरोगा’ पाठ की विधा क्या है?
(क) उपन्यास
(ख) रेखाचित्र
(ग) कहानी
(घ) संस्मरण
उत्तर – (ग) कहानी

(ii) ‘रजनी’ पाठ में सही बात कहने का डर किसे लग रहा था?
(क) रजनी के पति को
(ख) अमित व उसकी माँ को
(ग) हेडमास्टर को
(घ) संपादक को
उत्तर – (ख) अमित व उसकी माँ को

(iii) मास्टर त्रिलोक सिंह किसकी दुकान पर हुक्का पीकर आते हैं?
(क) चंद्रदत की
(ख) गोपाल सिंह की
(ग) धनराम के पिता जी की
(घ) वंशीधर की
उत्तर – (ख) गोपाल सिंह की

(iv) फिल्मकार जिस घर में शूटिंग करते थे, उसके पड़ोस में कौन रहता था?
(क) नलसाज
(ख) वैद्य
(ग) धोबी
(घ) वकील
उत्तर – (ग) धोबी

(v) इनमें से कौन-सी समस्या किसानों से संबंधित नहीं है?
(क) किसानों पर पूँजीपतियों का शिकंजा
(ख) कड़े लगान का थोपा जाना
(ग) पुलिस के जुल्म
(घ) महाजनों द्वारा आर्थिक मदद बिना ब्याज के देना
उत्तर – (घ) महाजनों द्वारा आर्थिक मदद बिना ब्याज के देना

5. ‘अभिव्यक्ति एवं माध्यम’ पर आधारित बहुविकल्पीय प्रश्नों के उत्तर दीजिए : (1 × 5 = 5 अंक)
(i) भारत में टेलीविजन की शुरुआत …………… को हुई थी।
(क) 15 सितम्बर, 1959
(ख) 20 सितम्बर, 1958
(ग) 15 सितम्बर, 1948
(घ) 15 सितम्बर, 1938
उत्तर – (क) 15 सितम्बर, 1959

(ii) जो संवाददाता केवल अपने क्षेत्र विशेष से संबंधित रिपोर्टों को भेजता है, वह कहलाती है :
(क) विशेष रिपोर्ट
(ख) रिपोर्टिंग
(ग) बीट रिपोर्टिंग
(घ) फ्रीलांसर
उत्तर – (ग) बीट रिपोर्टिंग

(iii) वॉचडांग पत्रकारिता का मुख्य उत्तरदायित्व क्या है?
(क) सरकार के काम-काज पर निगाह रखना
(ख) गड़बड़ी का पर्दाफाश करना
(ग) गोपनीय जानकारी का पर्दाफाश
(घ) विकल्प (क) व (ख) सही हैं
उत्तर – (घ) विकल्प (क) व (ख) सही हैं

(iv) डायरी लिखने के लिए कौन-सी डायरी उपयोगी हो सकती है?
(क) नई डायरी
(ख) पुराने साल की डायरी
(ग) (क) व (ख) दोनों सही
(घ) (क) व (ख) दोनों गलत
उत्तर – (ग) (क) व (ख) दोनों सही

(v) यह वह तकनीक है जिसके द्वारा भविष्य में होने वाली घटना को पहले दिखा दिया जाता है :
(क) फ़्लैश बैक
(ख) फ़्लैश फॉरवर्ड
(ग) पटकथा
(घ) कथा
उत्तर – (ख) फ़्लैश फॉरवर्ड

6. ‘वितान’ (भाग-1) पर आधारित बहुविकल्पीय प्रश्नों के उत्तर दीजिए :
(i) पर्जन्य का क्या अर्थ है?
(क) पहाड़
(ख) सागर
(ग) बादल
(घ) संगीत का क्षेत्र
उत्तर – (ग) बादल

(ii) चेलवांजी सिर में धातुओं से बने टोप क्यों पहनते हैं?
(क) सरदी से बचने के लिए
(ख) कंकड़-पत्थरों से बचने के लिए
(ग) गरमी से बचने के लिए
(घ) वर्षा से बचने के लिए
उत्तर – (ख) कंकड़-पत्थरों से बचने के लिए

(iii) ‘राजस्थान की रजत बूँदें’ के आधार पर, साँपणी किसे कहते हैं?
(क) कुंडली के आकार की रस्सी की बंधाई
(ख) मादां साँपिन
(ग) साँपिन के आकार की धातु से बनी रस्सी
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर – (क) कुंडली के आकार की रस्सी की बंधाई

(iv) आलो-आँधारि का क्या अर्थ है?
(क) दिन का उजाला
(ख) अँधेरे का उजाला
(ग) तारों का उजाला
(घ) घर का उजाला
उत्तर – (ख) अँधेरे का उजाला

(v) बेबी को अपनी माता की मृत्यु का समाचार कैसे मिला?
(क) पति से
(ख) पिता से
(ग) आनन्द बाबू से
(घ) जेठू से
उत्तर – (ख) पिता से

7. ‘व्याकरण’ पर आधारित बहुविकल्पीय प्रश्नों के उत्तर दीजिए : (1 × 5 = 5 अंक)
(i) ‘मनमौजी’ में ……………. समास है।
(क) अपादान तत्पुरुष
(ख) करण तत्पुरुष
(ग) अव्ययीभाव
(घ) कर्मधारय
उत्तर – (ख) करण तत्पुरुष

(ii) निम्नलिखित में कॉलम ‘क’ के शब्दों को कॉलम ‘ख’ की सन्धि से उचित मिलान कीजिए:
कॉलम ‘क’               कॉलम ‘ख’
1. दीक्षान्त              (i) गुण संधि
2. सुरेन्द्र                 (ii) व्यंजन सन्धि
3. उल्लेख              (iii) दीर्घ सन्धि
4. मनोयोग             (iv) विसर्ग सन्धि
(क) 1-(ii), 2-(iii), 3-(iv), 4-(i)
(ख) 1-(iii), 2-(i), 3-(ii), 4-(iv)
(ग) 1-(iii), 2-(iv), 3-(ii), 4-(i)
(घ) 1-(iv), 2-(iii), 3-(ii), 4-(i)
उत्तर – (ख) 1-(iii), 2-(i), 3-(ii), 4-(iv)

(iii) निम्नलिखित में से शुद्ध वाक्य छाँटिए :
(क) बच्चे को नहलाकर दूध पिलाओ।
(ख) बेफिजूल बातें मत करो।
(ग) मिठाइयाँ आमतौर पर अच्छी लगती हैं।
(घ) सुंदर सुरूप सराहनीय है।
उत्तर – (ख) बेफिजूल बातें मत करो।

(iv) “मैंने घर जाना है।” – इस वाक्य में दोष है।
(क) कारक चिह्न संबंधी
(ख) उपसर्ग संबंधी
(ग) पुनरूक्ति संबंधी
(घ) प्रत्यय संबंधी
उत्तर – (क) कारक चिह्न संबंधी

(v) ‘साफ-साफ’ का विग्रह पद होगा :
(क) बिल्कुल साफ
(ख) साफ और साफ
(ग) साफ
(घ) साफ रखना
उत्तर – (क) बिल्कुल साफ

8. ‘नैतिक शिक्षा’ पर आधारित बहुविकल्पीय प्रश्नों के उत्तर दीजिए : (1 × 5 = 5 अंक)
(i) नियम कितने होते हैं? संही चुनाव कीजिए।
(क) हिंसा, सत्य, अस्तेय, शक्ति, अपरिग्रह
(ख) शौच, सन्तोष, तप, स्वाध्याय, ईश्वर प्रणिधान
(ग) शौच, तप, हिंसा, सत्य, शक्ति
(घ) तप, स्वाध्याय, ईश्वर प्रणिधान, हिंसा
उत्तर – (ख) शौच, सन्तोष, तप, स्वाध्याय, ईश्वर प्रणिधान

(ii) डॉ० सी० वी० रमन को कौन-से पुरस्कार से सम्मानित किया गया?
(क) ज्ञानपीठ पुरस्कार से
(ख) साहित्य पुरस्कार से
(ग) लेनिन शांति पुरस्कार से
(घ) द्रोणाचार्य पुरस्कार से
उत्तर – (ग) लेनिन शांति पुरस्कार से

(iii) भगवान महावीर का मूल नाम क्या था?
(क) वर्धवान
(ख) महावीर जैन
(ग) त्रिशाल
(घ) वर्धमान
उत्तर – (घ) वर्धमान

(iv) अशफाक उल्ला खाँ को फाँसी के तख्ते पर कब लाया गया?
(क) मंगलवार 12 दिसम्बर, 1927
(ख) सोमवार 19 दिसम्बर, 1927
(ग) सोमवार 15 दिसम्बर, 1928
(घ) रविवार 25 दिसम्बर, 1928
उत्तर – (ख) सोमवार 19 दिसम्बर, 1927

(v) डॉ० अब्दुल कलाम भारत के ………….. राष्ट्रपति निर्वाचित हुए थे।
(क) दसवें
(ख) ग्यारहवें
(ग) बारहवें
(घ) पंद्रहवें
उत्तर – (ख) ग्यारहवें

खण्ड – ब (वर्णनात्मक प्रश्न)

9. निम्नलिखित पद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए : (5 अंक)
पग घुंघरू बांधि मीरां नाची,
मैं तो मेरे नारायण सुं, आपहिं हो गई साची
लोग कहैं, मीरां भई बावरी; न्यात कहै कुल-नासी
विस का प्याला राणा भेज्या, पीवत मीरां हाँसी
मीरा के प्रभु गिरधर नागर, सहज मिले अविनासी
प्रश्न :
(i) मीरा कृष्ण की भक्ति में लीन होकर क्या करने लगी थी?
उत्तर – मीरा कृष्ण की भक्ति में लीन होकर पैरों में घुंघरू बांधकर नाचती-गाती और भजन करती थी।

(ii) लोग मीरा को बावरी क्यों कहते हैं?
उत्तर – मीरा कृष्ण-भक्ति में अपनी सुध-बुध खो बैठी हैं। उन्हें किसी परंपरा या मर्यादा का ध्यान नहीं है। कृष्ण-भक्ति के लिए उन्होंने राज-परिवार छोड़ दिया, लोकनिंदा सही तथा मंदिरों में भजन गाए, नृत्य किया। भक्ति की यह पराकाष्ठा बावलेपन को दर्शाती है इसलिए लोगों ने उन्हें बावरी कहा।

(iii) पद्यांश के रचयिता व कविता का नाम लिखें।
उत्तर – पद्यांश के रचयिता मीराबाई हैं और यह पद्य कविता का हिस्सा है।

(iv) ‘सहज मिले अविनाशी’ का आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर – ‘सहज मिले अविनाशी’ का अर्थ है कि उनको अविनाशी भगवान कृष्ण की साधना में सहज ही लाभ मिला। उनकी भक्ति और प्रेम कभी नष्ट नहीं हुआ और वह उनको अविनाशी सुख प्रदान करते रहे।

(v) मीरा के लिए विष का प्याला किसने भेजा?
उत्तर – मीरा के लिए विष का प्याला राणा जी ने भेजा था।

अथवा

निम्नलिखित पद्यांश की सप्रसंग व्याख्या कीजिए :
हे सजीले हरे सावन,
हे कि मेरे पुण्य पावन,
तुम बरस लो वे न बरसें,
पाँचवे को वे न तरसें,
उत्तर : प्रसंग – प्रस्तुत काव्यांश पाठ्य पुस्तक आरोह भाग-1 में संकलित कविता ‘घर की याद’ से लिया गया है। इसके रचयिता भवानी प्रसाद मिश्र हैं। यह कविता जेल प्रवास के दौरान लिखी गई। एक रात लगातार बारिश हो रही थी तो कवि को घर की याद आती है। ऐसे में वह अपनी पीड़ा कविता के माध्यम से व्यक्त करता है।
व्याख्या – कवि सावन को संबोधित करते हुए कहता है कि हे सजीले हरियाले सावन! तुम अत्यंत पवित्र हो। तुम चाहे बरसते रहो, परंतु मेरे माता-पिता की आँखों से आँसू न बरसें। वे अपने पाँचवें बेटे की याद करके दुखी न हों।

10. निम्नलिखित गद्यांश की सप्रसंग व्याख्या कीजिए : (5 अंक)
फिर तेवर चढ़ा हमें घूरकर कहा – ‘तुनकी पापड़ से ज्यादा महीन होती है, महीन।, हाँ किसी दिन खिलाएँगे, आपको।
एकाएक मियाँ की आँखों के आगे कुछ कौंध गया। एक लंबी साँस भरी और किसी गुमशुदा याद को ताजा करने को कहा ‘उतर गए वे जमाने। और गए वे कद्रदान जो पकाने खाने की कद्र करना जानते थे। मियाँ, अब क्या रखा है ……………. निकाली तंदूर से निगली और हजम!’
उत्तर – विवेकानुसार खुद करे।

अथवा

थोड़ी देर पहले तक धमाचौकड़ी मचाते, उठा-पटक करते और बांज के पेड़ों की टहनियों पर झूलते बच्चों को जैसे साँप सूंघ गया है। कड़े स्वर में वह पूछते हैं, ‘प्रार्थना कर ली तुम लोगों ने”? यह जानते हुए भी किः यदि प्रार्थना हो गई होती तो गोपाल सिंह की दुकान तक उनका समवेत स्वर पहुँचता ही, त्रिलोक सिंह घूर-घूरकर एक-एक लड़के को देखते हैं। फिर वही कड़कदार आवाज, मोहन नहीं आया आज?
उत्तर – विवेकानुसार खुद करे।

11. निम्नलिखित प्रश्नों में से किसी एक का उत्तर लिखिए : (5 अंक)
(i) आपके स्कूल में हिन्दी साहित्य परिषद् की एक सभा, ‘हिन्दी-दिवस’ समारोह को मनाने हेतु, आयोजित की गई है। उसका प्रतिवेदन लिखिए।
उत्तर –

हिन्दी-दिवस समारोह का प्रतिवेदन

दिनांक: 14 सितम्बर 2024
स्थान: विद्यालय का सभागार
समय: प्रातः 10:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक

हमारे विद्यालय में हिन्दी साहित्य परिषद् द्वारा ‘हिन्दी-दिवस’ समारोह का आयोजन किया गया। यह समारोह हिन्दी भाषा और साहित्य के महत्त्व को समझाने और उसकी समृद्धि का उत्सव मनाने के उद्देश्य से आयोजित किया गया था।
कार्यक्रम का शुभारंभ प्रातः 10:00 बजे विद्यालय की प्रधानाचार्या श्रीमती रमा शर्मा जी द्वारा दीप प्रज्वलित करके किया गया। इसके पश्चात् विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। प्रधानाचार्या महोदया ने अपने उद्घाटन भाषण में हिन्दी भाषा के विकास और उसकी वर्तमान स्थिति पर प्रकाश डाला।
समारोह की मुख्य अतिथि, प्रसिद्ध हिन्दी साहित्यकार डॉ. वन्दना त्रिपाठी जी, ने अपने भाषण में हिन्दी भाषा की महत्ता और इसके प्रचार-प्रसार की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने विद्यार्थियों को हिन्दी साहित्य पढ़ने और समझने की प्रेरणा दी।
इसके बाद विभिन्न कक्षाओं के छात्रों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए, जिसमें कविताएँ, नाटक, भाषण और नृत्य शामिल थे। कक्षा 10 के छात्रों द्वारा प्रस्तुत ‘हिन्दी का महत्व’ नामक नाटक विशेष आकर्षण का केन्द्र रहा। कक्षा 8 के छात्र-छात्राओं ने ‘हिन्दी के महान कवियों’ पर एक समूह गान प्रस्तुत किया, जिसने सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया।
समारोह में एक कविता पाठ प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया, जिसमें छात्रों ने अपनी स्वयं की रचनाएँ प्रस्तुत कीं। निर्णायक मंडल ने कक्षा 11 की छात्रा सीमा सिंह को प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया।
अंत में, परिषद् के संयोजक श्री अरविंद तिवारी जी ने समारोह के सफल आयोजन के लिए सभी का धन्यवाद किया और हिन्दी भाषा के प्रति अपने समर्पण को बनाए रखने का आग्रह किया।
समारोह का समापन राष्ट्रगान के साथ हुआ। यह हिन्दी-दिवस समारोह सभी के लिए एक ज्ञानवर्धक और प्रेरणादायी अनुभव रहा।

प्रतिवेदन प्रस्तुतकर्ता,
राहुल वर्मा
सचिव, हिन्दी साहित्य परिषद्

(ii) आपका नाम मोहन कुमार है। आप लिपिक के पद के लिए आवेदन भेजना चाहते हैं। उसके लिए अपना स्ववृत्त तैयार करें।
उत्तर –

स्ववृत्त

नाम: मोहन कुमार
पिता का नाम: श्री रमेश कुमार
जन्म तिथि: 10 अगस्त 1995
लिंग: पुरुष
वैवाहिक स्थिति: अविवाहित
पता: 88, बाढ़डा, चरखी दादरी, हरियाणा – 127308
मोबाइल नंबर: 987654xxxx
ईमेल: [email protected]

शैक्षणिक योग्यता:
1. स्नातक (बी.ए.): MDU विश्वविद्यालय, रोहतक, 2016, प्रथम श्रेणी
2. इंटरमीडिएट (12वीं): केंद्रीय विद्यालय, चरखी दादरी, 2013, प्रथम श्रेणी
3. हाई स्कूल (10वीं): केंद्रीय विद्यालय, चरखी दादरी, 2011, प्रथम श्रेणी

तकनीकी कौशल:
1. कंप्यूटर दक्षता:
• माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस (वर्ड, एक्सेल, पावरपॉइंट)
• टाइपिंग स्पीड: 40 शब्द प्रति मिनट (हिन्दी), 50 शब्द प्रति मिनट (अंग्रेजी)
• बेसिक इंटरनेट और ईमेल का ज्ञान
2. भाषा कौशल:
• हिन्दी (मातृभाषा)
• अंग्रेजी (अच्छी समझ और लेखन कौशल)

कार्य अनुभव:
1. कंप्यूटर ऑपरेटर, आर.के. इन्फोटेक, भिवानी
कार्यकाल: जनवरी 2017 – दिसंबर 2019
• दस्तावेजों का प्रबंधन और डेटा एंट्री
• ईमेल और इंटरनेट का उपयोग करके सूचनाओं का आदान-प्रदान
• कार्यालय प्रशासनिक कार्यों में सहयोग
2. लिपिक, ए.बी.सी. कॉर्पोरेशन, भिवानी
कार्यकाल: जनवरी 2020 – वर्तमान
• फाइलिंग और रिकॉर्ड कीपिंग
• टेलीफोन कॉल्स का प्रबंधन और ग्राहकों से संवाद
• कार्यालय प्रशासनिक कार्यों का प्रबंधन

अन्य जानकारी:
1. सॉफ्ट स्किल्स:
• प्रभावी संवाद और वार्ता कौशल
• समय प्रबंधन और संगठनात्मक क्षमता
• टीम में काम करने की क्षमता
2. रुचियाँ:
• पठन-पाठन
• क्रिकेट खेलना
• समाज सेवा

संदर्भ:
1. डॉ. अरविंद कुमार
प्रोफेसर, MDU विश्वविद्यालय
संपर्क नंबर: 972819xxxx
2. श्री अमित वर्मा
प्रबंधक, ए.बी.सी. कॉर्पोरेशन
संपर्क नंबर: 967114xxxx

घोषणा:
मैं प्रमाणित करता हूँ कि मेरे द्वारा उपर्युक्त विवरण सही और सत्य हैं। किसी भी प्रकार की असत्यता पाए जाने पर, मेरी उम्मीदवारी रद्द की जा सकती है।

दिनांक: 4 जून 2024
स्थान: चरखी दादरी
(मोहन कुमार)
हस्ताक्षर: मोहन कुमार

(iii) स्वास्थ्य मंत्रालय, नई दिल्ली द्वारा कर्मचारियों के लिए सरकारी चिकित्सालयों में मुफ्त इलाज के संबंध में परिपत्र लिखिए।
उत्तर –

स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
नई दिल्ली

परिपत्र संख्या: HM/2024/01
दिनांक: 4 जून 2024

विषय: कर्मचारियों के लिए सरकारी चिकित्सालयों में मुफ्त इलाज की सुविधा

सभी मंत्रालयों, विभागों और कार्यालयों के कर्मचारियों को सूचित किया जाता है कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने कर्मचारियों और उनके परिवार के सदस्यों के लिए सरकारी चिकित्सालयों में मुफ्त इलाज की सुविधा प्रदान करने का निर्णय लिया है। इस संबंध में निम्नलिखित दिशा-निर्देश जारी किए जाते हैं:
1. प्रवेश की पात्रता: सभी केंद्रीय सरकार के नियमित और संविदात्मक कर्मचारी इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। इसके अलावा, उनके परिवार के सदस्य (पति/पत्नी, बच्चे, माता-पिता) भी इस सुविधा के पात्र होंगे।
2. चिकित्सालयों की सूची: देश भर के सभी सरकारी चिकित्सालय इस योजना के अंतर्गत आएंगे। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मान्यता प्राप्त निजी चिकित्सालयों में भी मुफ्त इलाज की सुविधा उपलब्ध होगी, बशर्ते कि वहां रेफरल की प्रक्रिया पूरी की जाए।
3. पहचान पत्र: कर्मचारियों को अपने और अपने परिवार के सदस्यों के लिए पहचान पत्र जारी किए जाएंगे, जिनका उपयोग मुफ्त इलाज के लिए किया जा सकेगा। यह पहचान पत्र कार्यालय के प्रशासनिक विभाग से प्राप्त किए जा सकते हैं।
4. इलाज की प्रक्रिया: कर्मचारियों और उनके परिवार के सदस्यों को चिकित्सा सुविधा प्राप्त करने के लिए संबंधित सरकारी चिकित्सालय में अपना पहचान पत्र प्रस्तुत करना होगा। वहां की पंजीकरण प्रक्रिया पूरी करने के बाद, वे सभी प्रकार की चिकित्सा सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे।
5. आपातकालीन सेवाएँ: किसी भी आपातकालीन स्थिति में, कर्मचारी और उनके परिवार के सदस्य निकटतम सरकारी चिकित्सालय में मुफ्त इलाज प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए पूर्व अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी।
6. विशेष चिकित्सा सुविधाएँ: गंभीर बीमारियों और विशेष चिकित्सा उपचार के लिए, कर्मचारी अपने विभागीय प्रमुख से अनुमोदन प्राप्त कर सकते हैं। इस मामले में, उन्हें सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त निजी चिकित्सालयों में भी इलाज की सुविधा प्राप्त होगी।
उपर्युक्त निर्देश तत्काल प्रभाव से लागू होंगे। सभी विभाग प्रमुखों से अनुरोध है कि वे अपने अधीनस्थ कर्मचारियों को इस परिपत्र की जानकारी दें और सुनिश्चित करें कि इस सुविधा का उचित उपयोग हो।

प्रमाणित,
(डा. सुमन त्रिवेदी)
सचिव, स्वास्थ्य मंत्रालय
भारत सरकार
नई दिल्ली

प्रतिलिपि:
1. सभी केंद्रीय मंत्रालय और विभाग
2. सभी राज्य सरकारें
3. सभी सरकारी चिकित्सालय
4. संबंधित अभिलेख हेतु कार्यालय प्रतिलिपि

12. काव्य-खण्ड पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दर्शाए गए अंकों के अनुसार उपयुक्त शब्दों में दीजिए :
(i) चंपा ने ऐसा क्यों कहा, कि कलकत्ता पर बजर गिरे? (3 अंक)
उत्तर – चंपा नहीं चाहती थी कि उसका पति उसे छोड़कर कमाने के लिए कलकत्ता जाए। कलकत्ता शहर परिवारों को तोड़ने वाला है। यह प्रतीक है-शोषण का। इस शोषण से आम व्यक्ति का जीवन नष्ट हो जाता है। चंपा अपने पति से अलग नहीं होना चाहती। अतः कवि की बात सुनकर उसे कलकत्ता पर गुस्सा आ गया और उसने कलकत्ता पर बजर गिरने की बात कही।

(ii) माटी का रंग प्रयोग करते हुए किस बात की ओर संकेत किया है? (2 अंक)
उत्तर – माटी का रंग प्रयोग करते हुए कवयित्री ने अपनी मूल पहचान को बनाए रखने की ओर संकेत किया है। इस कविता में कवयित्री ने माटी का रंग प्रयोग से स्थानीय संथाली लोकजीवन की विशेषताओं को उजागर करने का प्रयास किया है। वे चाहती हैं कि यहाँ के लोग अपनी सादगी, भोलापन, प्रकृति से जुड़ाव, और जुझारूपन आदि को बचाए रखें।

13. गद्य-खण्ड पर आधारित निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दर्शाए गए अंकों के अनुसार उपयुक्त शब्दों में दीजिए :
(i) ‘भूलो’ की जगह दूसरा कुत्ता क्यों लाया गया? उसने फिल्म के किस दृश्य को पूरा किया? (3 अंक)
उत्तर – ‘भूलो’ कुत्ते की मृत्यु हो गई थी। अतः उसके स्थान पर उसके जैसे दिखने वाले कुत्ते को लाया गया। उसके द्वारा शूटिंग पूरी हुई। इस कुत्ते द्वारा गमले में फेंका गया भात खाने का दृश्य था। यह दृश्य दूसरे कुत्ते से करवाया गया था।

(ii) दबा हुआ आदमी एक कवि है, यह बात कैसे पता चली और इस जानकारी का, फाइल की यात्रा पर क्या असर पड़ा? (2 अंक)
उत्तर – सेक्रेटेरिएट का माली दबे हुए व्यक्ति को खाना खिलाने जाता है। खाना खिलाते समय वह दबे हुए व्यक्ति को बताता है कि उसके विषय में सभी सेक्रेटियों की मीटिंग हो रही है। अतः उसके विषय में कुछ-न-कुछ फैसला निकल आएगा। तब वह एक शेर बोलता है, जिससे माली को पता चलता है कि वह एक कवि है। जब माली को पता चला कि यह कवि है, तो पूरे सेक्रेटेरिएट में यह बात फैल गई। सभी उसके पास आ गए। अब कहा गया कि यह फाइल न एग्रीकल्चर और न हॉर्टीकल्चर की है। यह तो कल्चर डिपार्टमेंट की है। इस तरह फाइल कल्चर डिपार्टमेंट में घूमकर साहित्य अकादमी सेक्रेटरी के पास पहुँची। वे भी कुछ नहीं कर पाए और पेड़ के नीचे दबा व्यक्ति दबा ही रह गया।

14. ‘वितान’ (भाग-1) पर आधारित निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दर्शाए गए अंकों के अनुसार उपयुक्त शब्दों में दीजिए :
(i) चेजारों के साथ गाँव समाज के व्यवहार में पहले की तुलना में आज क्या फर्क आया है? (पाठ के आधार पर बताइए) (3 अंक)
उत्तर – जो लोग कुंई खोदते हैं, उन्हें चेजारे कहा जाता है। राजस्थान के गाँवों में चेजारों को विशेष स्थान प्राप्त था। कुंई खोदने के पश्चात उन्हें गाँव वालों द्वारा बहुत मान-सम्मान दिया जाता था। कुंई खोदने के पश्चात विशेष समारोह किया जाता था। वर्षभर तक उन्हें प्रत्येक त्योहार में कुछ-न-कुछ भेंट दी जाती थी। यहाँ तक की फसल में उनका एक भाग भी निकालकर दिया जाता था। आज यह सब नहीं है। अब चेजारें को मज़दूरी देने का चलन आरंभ हो गया है। मात्र मज़दूरी देकर अपना काम करवा लिया जाता है।

(ii) बेबी की जिंदगी में तातुश का परिवार न आया होता, तो उसका जीवन कैसा होता? कल्पना करें और लिखें। (2 अंक)
उत्तर – बेबी की जिंदगी में तातुश का परिवार न आया होता तो बेबी को भी अन्य घरेलू नौकरों की तरह ही नारकीय जीवन जीना पड़ता। शारीरिक शोषण और मानसिक शोषण का शिकार होना पड़ता। उसके बच्चे भी अच्छा भोजन और शिक्षा से वंचित ही रहते। उन्हें भी कहीं बाल-मजदूर बनना पड़ता। तातुश के परिवार में आने के बाद ही बेबी और उसके बच्चों को एक सुरक्षित भविष्य मिल पाया और वह एक सम्मानित लेखिका बन पाई।

15. ‘व्याकरण’ पर आधारित निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दें। (3 + 2 = 5 अंक)
(i) निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर इस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दें :
मनुष्य को सुख कैसे मिलेगा? बड़े-बड़े नेता कहते हैं, वस्तुओं की कमी है, और धन की वृद्धि करो और बाह्य उपकरणों की ताकत बढ़ाओ। एक बूढ़ा था। उसने कहा था – बाहर नहीं, भीतर की ओर देखो। हिंसा को मन से दूर करो, मिथ्या को हटाओ, क्रोध और द्वेष को दूर करो, लोक के लिए कष्ट सहो। आराम की बात मत सोचो, प्रेम की बात सोचो, आत्म-पोषण की बात सोचो, काम करने की बात सोचो, उसने कहा प्रेम ही बड़ी चीज है, क्योंकि वह हमारे भीतर है। उच्छृंखलता पशु की प्रवृत्ति है, ‘स्व’ का बंधन मनुष्य का स्वभाव है।
प्रश्न :
(क) ‘उच्छृंखलता’ में कौन-सा प्रत्यय है?
उत्तर – ‘ता’ प्रत्यय

(ख) ‘स्व’ का बंधन किसका स्वभाव है?
उत्तर – मनुष्य का

(ग) गंद्याश में प्रयोग ‘ओर’ व ‘और’ का क्या अर्थ है?
उत्तर – ‘ओर’ किसी व्यक्ति, वस्तु अथवा स्थान विशेष को इंगित करने हेतु प्रयुक्त होता है, जबकि ‘और’ दो या दो से अधिक व्यक्ति, वस्तु अथवा स्थान विशेष में अंतर प्रदर्शित करने हेतु प्रयुक्त होता है।

(ii) स्वर संधि के भेदों का नाम बताते हुए गुण सन्धि को परिभाषित कीजिए।
उत्तर – स्वर संधि के पांच भेद होते हैं : दीर्घ संधि, गुण संधि, वृद्धि संधि, यण संधि और अयादि संधि।
गुण सन्धि – जब संधि करते समय (अ,आ) के साथ (इ,ई) हो तो ‘ए’ बनता है, जब (अ,आ) के साथ (उ,ऊ) हो, तो ‘ओ’ बनता है, जब (अ,आ) के साथ (ऋ) हो तो ‘अर्’ बनता है तो यह गुण संधि कहलाती है। जैस: पर + उपकार = परोपकार

16. ‘नैतिक शिक्षा’ पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दर्शाए गए अंकों के अनुसार उपयुक्त शब्दों में दीजिए :
(i) योग के कितने अंग हैं? उनका नाम लिखें व किन्हीं दो अंगों का वर्णन करें। (3 अंक)
उत्तर – योग के आठ अंग हैं :
(i) यम (संयम)
(ii) नियम (पालन)
(iii) आसन (योग मुद्राएं)
(iv) प्राणायाम (सांस पर नियंत्रण)
(v) प्रत्याहार (इंद्रियों को वापस लेना)
(vi) धारणा (एकाग्रता)
(vii) ध्यान (ध्यान)
(viii) समाधि (अवशोषण)
• यम – यम योग के पहले अंग हैं और इसमें आदर्श नियम शामिल हैं, जैसे कि अहिंसा (हिंसा से बचाव), सत्य (सच्चाई), अस्तेय (चोरी से बचाव), ब्रह्मचर्य (ब्रह्मचर्य में बरताव), और अपरिग्रह (अधिक संपत्ति से बचाव) मतलब, लालच से परे रहना चाहिए और आपसी सहायता करने की भावना रखने का अभ्यास किया जाता है.
• नियम – नियम, योग के दूसरे अंग में शामिल हैं, इसमें शौच (मन की पवित्रता), संतोष (संतुष्टि), स्वाध्याय (स्वयं को समझना का प्रयास), और ईश्वर के प्रति समर्पण की भावना रखने का अभ्यास किया जाता है जिससे मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने में मदद मिलती है।

(ii) विश्व एक परिवार कैसे बन सकता है? (2 अंक)
उत्तर – विश्व को एक मनुष्य परिवार की तरह बनाने के लिए हमें सभी मानवों के बीच समानता, समरसता, और समर्थता को प्रोत्साहित करना होगा। हमें एक-दूसरे के साथ सहयोग और समर्थन में विश्वास और समझदारी का भाव रखना होगा। विविधता को समृद्धि मानकर और उसे समृद्धिशाली तरीके से प्रबंध करके, हमें सभी लोगों के अधिकारों की सुरक्षा और समानता का समर्थन करना होगा।

 

Leave a Comment

error: