HBSE Class 9 Sanskrit Question Paper 2023 Answer Key

Haryana Board (HBSE) Class 9 Sanskrit Question Paper 2023 Answer Key. Haryana Board Class 9th Sanskrit Solved Question Paper 2023 PDF Download. HBSE Board Solved Question Paper Class 9 Sanskrit 2023. HBSE 9th Sanskrit Solved Question Paper 2023. HBSE 9th Class Sanskrit Solved Question Paper 2023.

HBSE Class 9 Sanskrit Question Paper 2023 Answer Key


 

(अपठित-अवबोधनम्)
1. अधोलिखितं गद्यांशं पठित्वा प्रदत्तप्रश्नानामुत्तराणि संस्कृतपूर्ण वाक्येन लिखत –
आचार्यः गुरुः भवति। गुरवः पूज्याः भवन्ति। संसारे गुरून् विना किमपि कार्यं न सिध्यति । अतः गुरवः महत्त्वपूर्णाः सन्ति। गुरवः शिष्याणां हिताय यत् शुभं कथयन्ति तत्-तत् वाक्यमेव उपदेशो भवति। अतः आचार्य देवो भव।
प्रश्नाः –
(क) के पूज्याः भवन्ति ?
उत्तर – गुरवः पूज्याः भवन्ति।

(ख) गुरुः को भवति ?
उत्तर – आचार्य: गुरुः भवति।

(ग) गुरवः कीदृशाः सन्ति ?
उत्तर – गुरवः महत्त्वपूर्णाः सन्ति।

(घ) ‘विना’ योगे का विभक्तिः भवति ?
उत्तर – द्वितीया।

(ङ) ‘शिष्याणाम्’ अत्र का विभक्ति किं वचनें च ?
उत्तर – बहुवचन (षष्ठी विभक्ति)

(रचनात्मक कार्यम्)
2. भवान् महेशः। विद्यालयस्य वार्षिकोत्सवम् अधिकृत्य मित्रं दिनेशं प्रति लिखितपत्रस्य रिक्तस्थानानि मञ्जूषापदैः पूरयत –
परीक्षाभवनम्
प्रियमित्र दिनेश,
सप्रेम ……….(I)………
अत्र कुशलं तत्रस्तु। अहं निजविद्यालयस्य ……….(II)……… वर्णनं करोमि। सप्ताहपूर्वम् एव विद्यालये सर्वे अध्यापकाः ………..(III)………. च वार्षिकोत्सवस्य सज्जायां व्यस्ताः आसन्। हरियाणा राज्यस्य शिक्षा-निदेशक: कार्यक्रमस्य ……….(IV)………. आसीत्। सः कार्यक्रमम् अतीव प्राशंसत्, योग्येभ्यः छात्रेभ्यः च पुरस्कारम् ………..(V) ………
भवतः प्रियः
महेश:
उत्तर – (I)नमस्ते, (II)वार्षिकोत्सवस्य, (III)छात्राः, (IV)अध्यक्षः, (V) अयच्छत्

3. प्रदत्तं चित्रं दृष्ट्वा प्रदत्तवाक्यानि पठित्वा च रिक्तस्थानानि उचितमञ्जूषापदैः पूरयत –

वाक्यानि –
(क) इदं वर्षा ……….(I)…….. दृश्यम् अस्ति।
(ख) गगनम् ………..(II)……… शोभते।
(ग) द्वौ बालकौ जले ………..(III)……….. तारयतः।
(घ) एकः बालकः एका बालिका च शिरसि ………..(IV)……… धारयतः।
(ड़) जले ……….(V)…….. टरटरायन्ते।
उत्तर – (I)ऋतोः, (II)मेघाच्छन्नं, (III)कर्गदनौकाः, (IV)आतपत्रं, (V)दर्दुराः

(पठित-अवबोधनम्)
4. अधोलिखितं गद्यांशं पठित्वा हिन्दीभाषया सरलार्थं लिखत –
(क) भ्रान्तः कश्चन बालः पाठशालागमनवेलायां क्रीडितुं निर्जगाम। किन्तु तेन सह केलिभिः कालं क्षेप्तुं तदा कोऽपि न तस्य वयस्येषु उपलभ्यमान आसीत्।
उत्तर – कोई भ्रमित बालक पाठशाला जाने के समय खेलने के लिए चला गया, किंतु उसके साथ खेल के द्वारा समय बिताने के लिए कोई भी मित्र उपलब्ध नहीं था।

अथवा

(ख) एकदा माता पुत्रीम् आदिदेश –’पुत्रि ! सूर्यातपे तण्डुलान् खगेभ्यो रक्ष।’ किञ्चित् कालानन्तरमेको विचित्रः काकः समुड्डीय ताम् उपजगाम।
उत्तर – एक बार उसकी माता ने थाली में चावल रखकर अपनी पुत्री से कहा- सूर्य की धूप में चावलों की पक्षियों से रक्षा करो। कुछ समय के बाद एक अनोखा कौआ उड़कर उसके पास आ गया।

5. अधोलिखितं श्लोकं पठित्वा सरलार्थं लिखत –
(क) वृत्तं यत्नेन संरक्षेत् वित्तमेति च याति च।
अक्षीणो वित्ततः क्षीणो वृत्ततस्तु हतो हतः।।
उत्तर – मनुष्य को सदाचार (सच्चरित्र) की दृढ़तापूर्वक रक्षा करनी चाहिए अर्थात् सदैव सदाचार की रक्षा में प्रयत्नशील रहना चाहिए। धन तो अस्थिर होता है अर्थात् आता-जाता रहता है। धन के क्षीण(कम) होने से मनुष्य क्षीण नहीं होता अर्थात् निर्धन नहीं होता अपितु सदाचार से क्षीण(हीन) होने पर निश्चय ही क्षीण हो जाता है।

अथवा

(ख) निवर्तय मतिं नीचां परदाराभिमर्शनात्।
न तत्समाचरेद्धीरो यत्परोऽस्य विगर्हयेत्।।
उत्तर – हे रावण ! पराई स्त्री के स्पर्श से नीच बनी हुई अपनी दुष्ट बुद्धि को रोको। क्योंकि विवेकी मनुष्य को उस प्रकार का आचरण(दुराचार) नहीं करना चाहिए जिसकी दूसरे लोग निन्दा करते हैं।

6. सूक्ति द्वयोः हिन्दीभाषायां भावार्थं लिखत –
(क) गुणाः गुणज्ञेषु गुणाः भवन्ति।
उत्तर – कोई गुण सज्जन के पास है तो ही वह सद्गुण होता है, वही गुण निर्गुणी के पास जाये तो वह दोष होगा।

(ख) परोपकाराय सतां विभूतयः।
उत्तर – परोपकार, सज्जनों की सम्पत्ति होती है।

(ग) अत एव प्रकृतिः अस्माभिः रक्षणीया।
उत्तर – हमें प्रकृति की रक्षा करनी चाहिए।

(घ) नास्त्यभावो जगति मूर्खाणाम्।
उत्तर – संसार में मूर्खों की कोई कमी नहीं।

7. अधोलिखितं गद्यांशं पठित्वा प्रदत्तप्रश्नयोः उत्तरे लिखत –
पुरा कश्मिंश्चिद् ग्रामे एका निर्धना वृद्धा न्यवसत्। तस्याः च एका दुहिता विनम्रा मनोहरा च आसीत्।
प्रश्नौ –
(क) ग्रामे कीदृशी वृद्धा न्यवसत् ?
उत्तर – ग्रामे एका निर्धना वृद्धा न्यवसत्।

(ख) विनम्रा मनोहरा च का आसीत् ?
उत्तर – तस्याः च एका दुहिता विनम्रा मनोहरा च आसीत्।

8. अधोलिखितं श्लोकं पठित्वा प्रदत्तप्रश्नयोः उत्तरे लिखत –
गुणेष्वेव हि कर्तव्यः प्रयत्नः पुरुषै: सदा।
गुणयुक्तो दरिद्रोऽपि नेश्वरैरगुणैः समः।।
प्रश्नौ –
(क) गुणेषु कैः प्रयत्नः कर्तव्यः ?
उत्तर – गुणेष्वेव हि कर्तव्यः प्रयत्नः पुरुषै: सदा।

(ख) अगुणैः ईश्वरैः समः कः न भवति ?
उत्तर – गुणयुक्तो दरिद्रोऽपि नेश्वरैरगुणैः समः।

9. रेखांकित पदानि आधृत्य प्रश्ननिर्माण कुरुत –
(क) वनवृक्षाः निर्विवेकं छिद्यन्ते।
उत्तर – के।

(ख) वृक्षकर्तनात् शुद्धवायुः न प्राप्यते।
उत्तर – कस्मात्।

(ग) प्रकृतिः जीवनसुखं प्रददाति।
उत्तर – किम्।

(घ) पर्यावरणरक्षणं धर्मस्य अङ्गम् अस्ति।
उत्तर – कस्य।

10. शेमुषी (भाग-1) पाठ्यपुस्तकात् प्रश्नपत्रं विहाय श्लोकमेकं लिखत।
उत्तर – प्रियवाक्यप्रदानेन सर्वे तुष्यन्ति जन्तवः।
तस्मात्तदेव वक्तव्यं वचने का दरिद्रता।।

(अनुप्रयुक्त-व्याकरणम्)
11. कर्मधारय अथवा द्वन्द्वसमासस्य परिभाषां सोदाहरणं हिन्दीभाषायां लिखत।
उत्तर : कर्मधारय समास – जिसका पहला पद विशेषण और दूसरा पद विशेष्य अथवा एक पद उपमान तथा दूसरा पद उपमेय हो तो, वह कर्मधारय समास कहलाता है। उदाहरण : नीलकमल (नीला है जो कमल), विद्याधन (विद्या रूपी धन)

अथवा

द्वन्द्व समास – समास का वह रूप जिसमें प्रथम और द्वितीय दोनों पद प्रधान होते हैं, उसे द्वन्द्व समास कहते हैं। उदाहरण : आजकल (आज और कल), अच्छा-बुरा (अच्छा और बुरा)

12. व्यञ्जनसन्धेः गुणसन्धेः वा परिभाषां सोदाहरणं हिन्दीभाषायां लिखत।
उत्तर : व्यंजन संधि – व्यंजन के बाद यदि किसी स्वर या व्यंजन के आने से उस व्यंजन में जो विकार/परिवर्तन उत्पन्न होता है वह व्यंजन संधि कहलाता है। उदाहरण : दिक् + अम्बर = दिगम्बर

अथवा

गुण संधि – जब संधि करते समय (अ, आ) के साथ (इ, ई) हो तो ‘ए‘ बनता है, जब (अ, आ) के साथ (उ, ऊ) हो तो ‘ओ‘ बनता है, जब (अ, आ) के साथ (ऋ) हो तो ‘अर‘ बनता है तो यह गुण संधि कहलाती है। उदाहरण : महा + ईश = महेश

13. कर्मकारकस्य अथवा सम्प्रदानकारकस्य परिभाषां सोदाहरणं हिन्दीभाषायां लिखत।
उत्तर : कर्म कारक – क्रिया का प्रभाव जिस पर पड़े उसे कर्म कारक कहते हैं,  इसकी विभक्ति ‘को’ होती है। उदाहरण : राम ने रावण को मारा। यहाँ ‘रावण को’ कर्म कारक है।

अथवा

सम्प्रदान कारक – जिसके लिए कोई क्रिया की जाती हैं या किसी को कुछ दिया जाता है, तो उसे सम्प्रदान कारक कहते है। दूसरे शब्दों में जिसके लिए कुछ किया जाय या किसी को कुछ दिया जाय, इसका बोध कराने वाले शब्द के रूप को सम्प्रदान कारक कहते है। इसकी विभक्ति ‘को’ और ‘के लिए’ है। उदाहरण : वह अरुण के लिए मिठाई लाया।

14. यथानिर्देशं शब्दरूपाणि लिखत –
(क) राम – चतुर्थी विभक्ति – एकवचने
उत्तर – रामाय

(ख) रमा – सप्तमी विभक्ति – बहुवचने
उत्तर – रमासु

(ग) हरि – तृतीया विभक्ति – एकवचने
उत्तर – हरिणा

(घ) किम् – (पुंल्लिंग) षष्ठी विभक्ति – एकवचने
उत्तर – कस्य

15. यथानिर्देशं धातुरूपाणि लिखत –
(क) भू – लट् लकार – प्रथमपुरुष – बहुवचने
उत्तर – भवन्ति

(ख) पठ् – लृट्लकार – उत्तमपुरुष – एकवचने
उत्तर – पठिष्यामि

(ग) गम् – लोट् लकार – मध्यमपुरुष – एकवचने
उत्तर – गच्छ

(घ) पा – लङ् लकार – प्रथमपुरुष – बहुवचने
उत्तर – अपिबन्

16. अधः प्रदत्तकोष्ठकशब्दयोः उपपदमाधृत्य उचितविभक्तिरूपं चित्वा लिखत –
(क) …………. नमः। (शिवात्, शिवाय)
उत्तर – शिवाय

(ख) बालः ………….. बिभेति। (कुक्कुरः, कुक्कुरात्)
उत्तर – कुक्कुरात्

(ग) पिता …………. सह गच्छति। (पुत्र, पुत्रेण)
उत्तर – पुत्रेण

(घ) माता ………. स्नियति। (पुत्रे, पुत्रस्य)
उत्तर – पुत्रे

17. उपसर्गान् पृथक् कृत्वा लिखत –
(क) अनुगच्छति
उत्तर – अनु

(ख) विभाति
उत्तर – वि

(बहुविकल्पीय – प्रश्नोत्तराणि)
18. अधोलिखितप्रश्नेषु प्रदत्तवैकल्पिक – उत्तरेषु एकं शुद्धमुत्तरं विचित्य लिखत –
(क) ‘विद्यार्थी’ पदस्य सन्धिविच्छेदोऽस्ति –
(i) विद्या + अर्थी
(ii) वि + द्यार्थी
(iii) विद्य + अर्थी
(iv) विद्या + र्थी
उत्तर – (i) विद्या + अर्थी

(ख) ‘सु + आगतम्’ इत्यत्र किं सन्धिपदम् ?
(i) स्वगतम्
(ii) सुगतम्
(iii) स्वागतम्
(iv) स्व + आगतम्
उत्तर – (iii) स्वागतम्

(ग) ‘परोपकारः’ अस्मिन् पदे किं विग्रहपदम् ?
(i) परः उपकारः
(ii) परेषाम् उपकारः
(iii) परे उपकारः
(iv) परोप कारः
उत्तर – (ii) परेषाम् उपकारः

(घ) ‘मातापितरौ’ इत्यत्र कः समासः ?
(i) द्वन्द्व
(ii) अव्ययीभाव
(iii) द्विगु
(iv) कर्मधारय
उत्तर – (i) द्वन्द्व

(ङ) ‘गन्तुम्’ इत्यत्र कः प्रत्ययः ?
(i) क्त
(ii) क्त्वा
(iii) तुमुन्
(iv) तल
उत्तर – (iii) तुमुन्

(च) ‘विहाय’ अस्मिन् पदे कः प्रत्ययः ?
(i) क्त्वा
(ii) तल्
(iii) ल्यप्
(iv) टाप्
उत्तर – (iii) ल्यप्

(छ) ‘अधः’ इति पदस्य विलोमपदं लिखत।
(i) बहिः
(ii) उपरि
(iii) अन्तः
(iv) अपरे
उत्तर – (ii) उपरि

(ज) ‘इन्द्रः’ इति पदस्य पर्यायपदं किम् ?
(i) शुक्रः
(ii) शुकः
(iii) शक्रः
(iv) शक्कर:
उत्तर – (iii) शक्रः

(झ) ‘सूर्यास्त:’ इति पदस्य विलोमपदं किम् ?
(i) सूर्योदयः
(ii) सूर्यान्तः
(iii) सूर्यकान्तः
(iv) सर्वोदय
उत्तर – (i) सूर्योदयः

(ञ) ‘धनम्’ इतिपदस्य पर्यायपदं किम् ?
(i) वृत्तम्
(ii) वातम्
(iii) पित्तम्
(iv) वित्तम्
उत्तर – (iv) वित्तम्

(ट) ‘जीमूतवाहनः’ इति पदस्य विशेषणपदं किम् ?
(i) परोपकारः
(ii) दानवीरः
(iii) अनश्वरः
(iv) कल्पतरुः
उत्तर – (ii) दानवीरः

(ठ) ‘भ्रान्तः’ इति पदस्य विशेष्यपदं किम् ?
(i) भ्रान्तम्
(ii) भ्रन्तः
(iii) बालः
(iv) भृशम्
उत्तर – (iii) बालः

(ड) ‘प्रति’ योगे का विभक्तिः ?
(i) प्रथमा
(ii) द्वितीया
(iii) तृतीया
(iv) चतुर्थी
उत्तर – (ii) द्वितीया

(ढ) ‘सह’ योगे का विभक्तिः ?
(i) तृतीया
(ii) चतुर्थी
(iii) प्रथमा
(iv) षष्ठी
उत्तर – (i) तृतीया

(ण) ‘एकोनषष्टिः’ इति पदे का संख्या ?
(i) 69
(ii) 59
(iii) 79
(iv) 49
उत्तर – (ii) 59

(त) ’16’ इति अंके किं संख्यावाचिपदम् ?
(i) षट्
(ii) सप्तदश
(iii) षोडश
(iv) नवदश
उत्तर – (iii) षोडश

 

Leave a Comment

error: